Fact Check 2 din collector news जाने पूरी सच्चाई वीडियो की

Fact Check 2 din collector news जाने पूरी सच्चाई ,क्यों वायरल हुआ वीडियो,किसने कहा कहा शेयर किया वीडियो को 

2 दिन कलेक्टर न्यूज़: सोशल मीडिया पर 28 सेकंड का एक वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि झाबुआ की इस आदिवासी लड़की को दो दिन के लिए कलेक्टर बनाया गया है।

वायरल वीडियो में लड़की बोल रही है कि “नहीं तो सर हमको कलेक्टर बना दो, हम कलेक्टर बनने के लिए तैयार हैं, सबकी मांगें पूरी कर देंगे, अगर आप कर नहीं पाते तो।

Fact Check 2 din collector news

किसके लिए बनी है सरकार? जैसे कि हम भीख मांगने के लिए यहाँ आए हैं? हम गरीबों के लिए कुछ व्यवस्था करो सर, हम आदिवासी लोग इतनी दूर से आते हैं, कितने पैसे किराया देकर आते हैं।”

क्यों हुवा वीडियो वायरल Fact Check 2 din collector news

एक यूजर ने इस वीडियो क्लिप को शेयर कर लिखा कि ‘दो दिन की कलेक्टर बनेगी मध्यप्रदेश के झाबुआ की आदिवासी समुदाय की बहन निर्मला। शिक्षा उस शेरनी का दूध है जिसे जो पियेगा वो दहाड़ेगा, इसी बेबाक दहाड़ ने बहन को वायरल किया है। और दो दिन के लिए कलेक्टर बनाया है।’

ट्वीटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम सब पर किया गया शेयर 

Fact Check 2 din collector news

Join on whatapps

पड़ताल में यह दावा झूठा निकला

न्यूज की पड़ताल में यह दावा झूठा निकला। प्रदर्शन के दौरान खुद को कलेक्टर बना देने की बात कहने वाली लड़की का नाम निर्मला है। उसको दो दिन के लिए कलेक्टर बनाने का कोई आदेश नहीं दिया गया है।

2 दिन की कलेक्टर न्यूज़ क्या है जाने

जय आदिवासी युवा शक्ति के प्रवक्ता डॉ. आनंद राय ने ट्वीट कर मांग किया कि, ‘क्या माननीय शिवराज चौहान झाबुआ की इस आदिवासी छात्रा को 2 दिन के लिए झाबुआ का कलेक्टर बनाएंगे ताकि जो मुद्दे उसने उठाये थे, उनसे सम्बंधित आदेश जारी हो सके।’ 

इसी बीच इस वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि झाबुआ की इस आदिवासी लड़की को दो दिन के लिए कलेक्टर बनाया गया है। 

वीडियो में कही बात कलेक्टर बनाने की लेकिन बनाने को लेकर जिक्र नही

प्राप्त रिपोर्ट में यह तो बताया गया था कि लड़की ने खुद को कलेक्टर बनाने की बात कही हैं, लेकिन कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं था कि लड़की को दो दिन के लिए कलेक्टर बनाया गया है। 

झाबुआ के डीएम सोमेश मिश्रा से संपर्क करके बड़े tv  रिपोटर ने ली जानकरी मामले की

झाबुआ के डीएम सोमेश मिश्रा से संपर्क किया। उन्होंने बताया कि, “वीडियो में नज़र आ रही लड़की को दो दिन का डीएम नहीं बनाया गया है। यह ख़बर गलत है। हमने प्रदर्शनरत छात्रों को आज बुलाया था और उनकी मांगों को सुना है और कार्रवाई भी की गई है।”

Fact-Check  का निष्कर्ष

वीडियो में दिख छात्रा का नाम निर्मला चौहान है। उनको दो दिन का कलेक्टर बनाए जाने के लिए कोई आदेश नहीं दिया गया है। भ्रामक पोस्ट वायरल हो रही है।

 

 

2 thoughts on “Fact Check 2 din collector news जाने पूरी सच्चाई वीडियो की”

Leave a Comment