Indian gayle Mahipal Lomror: भारत के गेल महिपाल लमरोर ने आंध्र के खिलाफ रणजी मैच में शानदार बल्लेबाजी

Indian gayle Mahipal Lomror: गेल ने दूसरी पारी में बनाए 79 रन, राजस्थान मजबूत स्थिति में त्रिवेन्द्रम में खेले जा रहे मैच में राजस्थान की तरफ से आंध्रप्रदेश के खिलाफ मैच की दूसरी पारी में महिपाल ने शानदार 79 रन बनाए।

Indian gayle Mahipal Lomror: नागौर जिले के महिपाल लमरोर की शानदार बलेबाजी

राजस्‍थान के नागौर जिले में पले-बढ़े क्रिकेटर महिपाल लोमरोर रणजी मैच में शानदार प्रदर्शन किया है। त्रिवेन्द्रम में खेले जा रहे मैच में राजस्थान की तरफ से आंध्रप्रदेश के खिलाफ मैच की दूसरी पारी में महिपाल ने शानदार 79 रन बनाए। इससे पहले मैच की पहली पारी में भी उन्होंने 4 चौकों और एक छक्के के साथ 32 रन ठोके थे।

मैच की दूसरी पारी में महिपाल के अलावा राजस्थान के कप्तान अशोक मेनारिया ने भी शानदार 79 रन बनाए। इन पारियों की बदौलत राजस्थान मैच में मजबूत स्थिति में पहुंच गया है।

इससे पहले राजस्थान ने आंध्र के खिलाफ पहली पारी में 51 रन की बढ़त हासिल की थी। राजस्थान के पहली पारी के 275 रन के जवाब में आंध्र की टीम 224 रन ही बना सकी। अनिकेत चौधरी ने 40/4 विकेट लिये। शुभम शर्मा ने 69/3 और तनवीर उल हक ने 41/2 विकेट लिये।

Indian gayle Mahipal Lomror

Indian gayle Mahipal Lomror

मानव सुथार भी अपने रणजी करियर का पहला विकेट लेने में सफल रहे थे। इसके बाद दूसरी पारी में राजस्थान ने 316 रन बनाते हुए आखिरी पारी में आंध्रा को जीत के 341 रन का टारगेट दिया। जिसका पीछा करते हुए अभी तक आंध्रा टीम ने 100 रन बनाने में ही 4 विकेट गंवा दिए है।

नागौर के गेल को दादा ने 2 साल की उम्र में पकड़ा दिया था बेट

महिपाल के दादा उम्मेद सिंह लोमरोड़ ने मात्र 2 वर्ष की उम्र में ही महिपाल को बैट थमा दिया था। महिपाल ने भी दादा को निराश नहीं किया। क्रिकेटर बनने को ही जीवन का लक्ष्य बना लिया। महिपाल ने क्रिकेट के शुरुआती गुर नागौर में ही सीखे। दादी के साथ जयपुर पहुंच क्रिकेट एकेडमी में टैलेंट को निखारा।

यह भी पढ़े

Nagaur train cancelled: 14 दिन तक 8 ट्रेनें रद्द,18 का मार्ग बदला

Nagaur Mandi Bhav today: नागौर मंडी भाव आज का 18/02/2022 जाने

पूर्व क्रिकेटर ने कहा था जूनियर गेल

महिपाल बांए हाथ के बल्लेबाज और लेफ्टऑर्म स्पिन बॉलिंग भी करते हैं। उन्हें 2018 में राजस्‍थान की टीम में बतौर ऑलराउंडर खरीदा गया था। एक बार वो 2011 में मुंबई में मैच खेलने गए थे। तब वहां पूर्व क्रिकेटर चंद्रकांत पंडित भी पहुंचे थे। पंडित ने उन्हें जूनियर गेल और भारत का क्रिस गेल कहकर बुलाया था। जब ये बात उन्होंने वापस लौटकर अपने राजस्‍थान क्रिकेट बोर्ड के साथियों को बताया तो उन्हें अब दोस्त जूनियर गेल ही कहते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *