Nagaur: स्कूलों में लड़कियों की ताक-झांक, व घरों में खिड़कियों से रख रहे है नज़र हर चीज की सुरक्षा को खतरा

Nagaur: नागौर जिले में बढ़ते ड्रोन कैमरों की आजादी पर पहरा लग सकता है। निजता भंग होने की आशंका के चलते इन्हें एसपी अथवा जिला कलक्टर से अनुमति भी लेनी पड़ सकती है। इसके लिए कवायद शुरू हो गई है।

बढ़ते ड्रोन कैमरों के बारे में सीआईडी (अपराध जांच विभाग) पड़ताल तो कर रही है ओर पता लगा रही है कौन कौन ड्रोन कैमरा का दुरुपयोग कर रहा है। असल में जिलेभर के ड्रोन कैमरों की संख्या तक की पुख्ता जानकारी उसके पास भी नहीं है।

Nagaur स्कूल/कॉलेज की बालिकाओं की लगातार शिकायत

Nagaur

सूत्रों के अनुसार आवासीय बालिका विद्यालय ही नहीं बालिका स्कूल/कॉलेज के साथ शिक्षिकाओं के अलावा कामकाजी महिलाएं ही नहीं गृहिणियों की आवाज भी इस ड्रोन कैमरे के खिलाफ बुलंद हो रही है।

एक से आठ किलोमीटर तक की रेंज वाले ये ड्रोन कैमरे को निजता उल्लंघन का दोषी माना जाने लगा है। फोटोग्राफी प्रोफेशन के लिए आधुनिकता रंग का यह ड्रोन बदमाश-शातिरों के हाथों लोगों को डराने के काम भी आ रहा है

Nagaur vaccine center: 15 से 18 साल

Nagaur में आजादी निजता भंग करने के कारण लग सकती है रोक

नागौर जिले में आवासीय बालिका विद्यालय/बालिका स्कूल समेत कई ऐसे इलाकों में ड्रोन कैमरों की आजादी निजता भंग कर रही है। ऐसे में परमीशन की व्यवस्था की जाए।

यही नहीं ड्रोन कैमरे के जरिए लोगों को बेवजह डराने, तनाव देने वाले कुछ शातिर ड्रोन कैमरा चलाने वालों की शिकायत दर्ज तो नहीं होती, सुनने में आ जाती है। ऐसे में उन पर भी रोक लगाई जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *