Crime Patrol: देखकर युवकों ने बनाया दोस्त का मर्डर प्लान, दी दर्दनाक मौत 

Crime Patrol: बांसवाड़ा पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. पुलिस ने अरथुना क्षेत्र में लूट के इरादे से हुई युवक की हत्या का 72 घंटे में खुलासा कर दिया है. हत्या के दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पैसों के खातिर दोस्त ने ही अपने दोस्त की हत्या की.

Crime Patrol 

क्राइम: बांसवाड़ा पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है. पुलिस ने अरथुना क्षेत्र में लूट के इरादे से हुई युवक की हत्या का 72 घंटे में खुलासा कर दिया है. हत्या के दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पैसों के खातिर दोस्त ने ही अपने दोस्त की हत्या की. लूट की पूरी साजिश अरोपियों ने क्राइम पेट्रोल टीवी सीरियल देख कर रची थी.

Crime Patrol क्या है पूरा मामला

राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के अरथुना थाना क्षेत्र में स्थित माही नदी में 16 जनवरी को अज्ञात युवक की लाश मिली थी, जिसकी सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय ग्रामीणों की मदद से माही नदी से युवक के शव को बाहर निकाला. युवक का शव जब बाहर आया तब युवक के दोनों हाथ मफलर और प्लास्टिक की टेप से बंधे हुए थे. मुंह भी प्लास्टिक की टेप से बंधा हुआ था. मौके पर एसपी और डीएसपी पहुंचे और इस पूरी घटना की जानकारी ली. 

Crime Patrol

Crime Patrol

प्रथम द्रष्टता में मामला हत्या का लगा, जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर शव को एमजी चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवा दिया. एसपी राजेश कुमार मीणा ने एक विशेष टीम का गठन किया, जिसमें डीएसपी सूर्यवीर सिंह, अरथुना थाना अधिकारी प्रवीण सिंह सिसोदिया सहित थाना रहा. पुलिस के लिए सबसे बड़ी चुनौती थी कि अज्ञात शव की शिनाख्त नहीं हुई थी. पुलिस ने बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़ और उदयपुर के थाना सर्कल में मृतक युवक के शव के फोटो वितरित किए और बांसवाड़ा जिले में भी सोशल साइट पर पुलिस ने मृतक के फोटो शेयर किए, जिस पर मृतक के परिजनों ने युवक की पहचान की और पुलिस को इसकी सूचना दी. 

पुलिस ने बताया की Crime Patrol सीरियल देख कर मर्डर का प्लान बनाया

मृतक की पहचान गढ़ी थाना क्षेत्र के वजाखरा गांव निवासी 21 वर्षीय योगेश पाटीदार के रूप में हुई. पुलिस ने परिजनों से पूरे मामले की जानकारी ली. परिजनों ने बताया कि योगेश सरकारी नौकरी की बात कह रहा था और पिता से 45 हजार रुपए नगद लेकर जयपुर के लिए निकला था. उसके बाद से उसका फोन बंद था. पुलिस ने इस पूरे मामले की गहनता से जांच की. पुलिस को जानकारी मिली कि मृतक योगेश पाटीदार 15 जनवरी को परतापुर कस्बे में भाविक यादव के साथ देखा गया था. इस पर पुलिस ने बोरी गांव निवासी भाविक यादव को डिटेन किया. उससे गहनता से पूछताछ की तो भाविक यादव ने अपने दोस्त के साथ मिलकर इस हत्या को अंजाम देना कबूल किया. 

Crime Patrol देखने का नशा

पुलिस ने भाविक के दोस्त बोरी गांव निवासी शंकर यादव को भी गिरफ्तार कर लिया. दोनों आरोपियों से पुलिस ने गहनता से पूछताछ की गहनता से पुछताज की तो पूरा मामला सामने आया. आरोपी भाविक ने बताया कि वो ड्रक्स का आदी हो चुका था, उसने ड्रक्स के चक्कर में कई लोगों से पैसे उधार ले रखे थे. इस पर मैंने अपने दोस्त शंकर यादव के साथ मिलकर लूट और हत्या की साजिश रची. मृतक राकेश पाटीदार भी भाविक का खास दोस्त था. दोनों 12वीं क्लास साथ में परतापुर स्कूल में पढ़ते थे. इसलिए मृतक आरोपी भाविक पर पूरा विश्वास करता था. आरोपी भाविक ने अपने साथी शंकर के साथ मिलकर मृतक राकेश की हत्या की साजिश रची. यह पूरी साजिश टीवी सीरियल क्राइम पेट्रोल को देख कर रची गई. दोनों आरोपियों ने कई बार क्राइम पेट्रोल के कई एपिसोड देखें उसके बाद पूरी साजिश को रचा. 

यह भी पढ़े

Jalore crime news: अय्याशी के लिये मांगी 

Nagaur Crime : नागौर क्राइम न्यूज़, 

आरोपी भाविक ने मृतक राकेश को कहा कि वन विभाग में वनपाल के पद की सरकारी नौकरी निकली है मैं तुझे दिला दूंगा. इस नौकरी के लिए पैसे लगेंगे. मृतक राकेश ने भाविक की बात पर विश्वास कर लिया. इसके बाद मृतक राकेश ने 15 जनवरी को अपने पिताजी से 45 हजार रुपए लिए और जयपुर जाने के लिए निकला. परतापुर में आरोपी भाविक यादव अपने दोस्त शंकर यादव के साथ बाइक लेकर खड़ा था. तभी मृतक राकेश आया और उसे बाइक पर बिठा कर बोरी गांव के पास मंगलेश्वर महादेव मंदिर के पास एक कोटडी में ले गए. जहां पर आरोपियों ने योगेश के साथ मारपीट की और हत्या कर दी. आरोपियों ने योगेश के दोनों हाथ को मफलर और प्लास्टिक की टेप से बांध दिया और मुंह को भी प्लास्टिक की टेप से बांध दिया और बाइक पर मृतक की लाश लेकर गलियाकोट पुल पहुंचे. वहां से माही नदी में शव को फेंक दिया. इसके बाद दोनों आरोपियों ने पैसे मोबाइल अन्य सामान आपस में बांट लिया. पुलिस ने दोनों आरोपियों से मोबाइल और नगदी बरामद और हत्या में उपयोग में ली बाइक को जब्त कर लिया है. पुलिस ने इस हत्याकांड को 72 घंटे में खुलासा किया. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *