जयपुर में सिगडी बनी जहर: सिगड़ी जलाकर सोना एक परिवार को पड़ा महंगा, कमरे में सोये परिवार हादसे का शिकार

जयपुर में सिगडी: सर्दी से बचाव के लिए सिगड़ी जलाकर कमरे में सोये परिवार हादसे का शिकार हो गया। दम्पती दो बेटियां के साथ सोये थे। रात को दम घुटने से सभी लोग बेहोश हो गए। अलसुबह करीब पांच बजे कमरे के गेट के पास सो रहे महेश को होश आया तो 18 माह की मासूम बेटी का हाथ सिगड़ी में झुलस रहा था।

पत्नी बेहोश मिली, जिसकी मौत हो गई। वहीं दूसरी बेटी को अस्पताल में उपचार के बाद स्वस्थ है। वहीं झुलसी बेटी का जयपुर एसएमएस अस्पाताल मेंं उपचार चल रहा है।

जयपुर में सिगडी

जयपुर में सिगडी ये है मामला….

जिले के मौजमाबाद में तहसील कार्यालय के पास सर्दी से बचाव के लिए सिगड़ी जलाकर कमरे में सो रही गर्भवती महिला की दम घुटने से मौत हो गई जबकि पास ही सो रही डेढ़ साल की मासूम बच्ची का हाथ झुलस गया। जिसे उपचार के लिए एसएमएस अस्पताल रैफर किया गया।

परिवार उजाड़ दिया जयपुर के बासी गाव में सिगड़ी ने

महेश कुमार जांगिड़ निवासी राजाजी के कुएं के पास मंगलवार रात सर्दी से बचाव के लिए सिगड़ी जलाकर कमरे में अपनी पत्नी व दो बेटियां के साथ सो गया। दम घुटने से परिवार के सभी लोग बेहोश हो गए।

जयपुर में सिगडी

अलसुबह करीब पांच बजे कमरे के गेट के पास सो रहे महेश को होश आया तो उसकी 18 माह की बेटी पलंग से लटका हाथ सिगड़ी में झुलसता दिखा। उसने पत्नी को जगाने का प्रयास किया तो वह बेहोश मिली।

विशेषज्ञों के अनुसार सिगड़ी इसलिए बनती है मौत का कारण… 

यह भी पढ़े

Rajasthan Vidhan Sabha budget 2022

Zero Hunger Yojana Rajasthan 2022

विशेषज्ञों के अनुसार कमरे से सिगड़ी जलाकर सोने से अक्सर मौत हो जाती है। इसका कारण ऑक्सीजन की कमी और कार्बनडाई मोनेा ऑक्साइड का बढ़ जाना है। सिगड़ी जलाने के बाद सर्दी से बचाव के लिए अक्सर लोग कमरा बंद कर लेते हैं। ऐसे में काेयला जलने से कमरे में ऑक्सीजन की मात्रा धीरे-धीरे कम हो जाती है और कार्बनडाई ऑक्साइड गैस की अधिकता होने से बेहोशी आती है या फिर दम घुटने से मौत हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *